Home / Hindi Blogging / जानिए बलात्कार और अपराध के मुख्य कारण

जानिए बलात्कार और अपराध के मुख्य कारण

क्या आप जानते हैं? भारत में बलात्कार के मुख्य कारण क्या हैं। मैंने कई दिनों तक विचार किया और बहुत लोगों से उनकी राय ली तो ये कुछ मुख्य कारणों का पता चला।

बलात्कार और अपराध के मुख्य कारण

१. अशुद्ध संस्कृति का मष्तिस्क पर प्रभाव

आजकल अशुद्ध संस्कृति का मष्तिस्क पर प्रभाव कई कारणों से हो रहा है। इसमें में मुख्य कारण भारतीय मूल की हिंदी फिल्मो को मानता हूँ। जो हम देखते हैं उसका प्रभाव हमारी बुद्धि पर अवश्य पड़ता है। इसका उदाहरण आप स्वयं ही दृश्यम फिल्म में देख चुके होंगे। आजकल जो फिल्में बॉलीवुड में बन रहीं हैं उनमे से अधिकांश फिल्म में इतने विक्षिप्त मानसिकता वाले कामुक दृश्य होते हैं मानसिकता पर बहुत गलत असर डाल रहे हैं। कुछ लोग इसे एक तरह आजादी भी मान रहे हैं और सही ठहरा रहे हैं। इन फिल्मों में नग्नता ही नहीं बल्कि विचारों को दूषित करने वाले दृश्य होते हैं। फिल्मों के निर्देशक इन दृश्यों को फिल्म की कहानी का मुख्य हिस्सा बताते हैं। पर असलियत में उन फिल्मो में कहानी ही नहीं होती। फिल्म का समय पूरा करने के लिए वो फिल्म में आइटम सांग्स, कामुक और भद्दे नग्नता वाले दृश्य डाल देते हैं। ताकि उनकी फिल्म बॉक्सऑफिस पे पैसे कमा सके।

rape blog

मैं आजकल की अभिनेत्रियों को भी इसमें बराबर का दोषी मानता हूँ। कम कपडे पहन कर और अश्लील दृश्य करके अपने आप को कामयाब बनाना चाहती हैं। ऐसा नहीं है की बॉलीवुड में अच्छी फिल्मे नहीं बनती कई अच्छी फिल्में भी बनती है जिनमे कोई अश्लील दृश्य नहीं होता फिर भी वो बहुत प्रचलित हो जाती हैं। पर ये बहुत सी गन्दी फ़िल्में इंसान के दिमाग में घर कर जाती हैं। जो आगे चल के अपराध का कारण बनता है।

२. शराब पीना

शराब पीना आजकल के जीवनशैली का मुख्य हिस्सा बनते जा रहा है। वो लोग शराब पीने को सोशल स्टेटस कहते हैं। जिस चीज को पीने से मनुष्य का मष्तिस्क उसके नियंत्रण में नहीं रहता वो चीज कैसे सही हो सकती है। कुछ लोग कहते हैं थोड़ी शराब पीने से कुछ नहीं होता और रोज थोड़ी थोड़ी शराब पीने से स्वस्थ्य सही रहता है। में आपको बता दूँ की ये सब मानसिकता को भ्रमित करने वाले तथ्य हैं जो विदेशी कम्पनियों की एक लॉबी ने कुछ लोगो जिनको साइंटिस्ट्स कहते हैं के द्वारा प्रचारित करवाया गया है। शराब पीने से कोई लाभ नहीं होता।

३. मांसाहार

मांसाहार मनुष्य को निर्दयी बनता है। मांसाहार से मनुष्य क्रोध और कामुकता की और बढ़ता है। जिससे उसका पतन निश्चित है। में आपको ये भी बता दूँ की मांसाहार को भी , जो की गलत है सही प्रचारित किया गया है। पाश्चात्य सभ्यता वाले लोगों ने इसे प्रोटीन के नाम से प्रचारित किया है।
मैं आपको बता दूँ जितना पोषक तत्व शाकाहार में होते हैं उतना नुकसान मांसाहर से होता है। ये भी मुख्य काराण है आज कल बढ़ रहे अपराध का।

कैसे रोका जा सकता है बलात्कार और अपराध को

इसको रोकने के भी उपाय हैं पहला उपाय मनुष्य को अध्यत्म से जोड़ना होगा। उसके मन और मष्तिस्क को शांत करना होगा। जो भक्ति से सहज ही संभव है। एक दूसरे की सहयता के लिए प्रेरित करना होगा। मानवता को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करना होगा। उसे अपना लक्ष्य बनाना होगा जो है एक सरल जीवन। मांसाहार , शराब और गलत मानसिकता वाली फिल्मो और नाटकों को ना देखें अगर सब लोग ये ठान लेंगे तो कुछ दिनों में ये ऐसी फिल्मे बनना बंद हो जाएँगी। ऐसी फिल्मे और नाटक बनाये जो मानवता को आगे बढ़ाये, दुसरो की सेवा को प्रेरित करे। कहीं पर भी आप कुछ गलत होता देखे तो वीडियो ही न बनाये बल्कि उसे रोकें

अगर आपको मेरे विचार अच्छे लगे तो अपने मित्र को भी बतायें। अगर आप मेरे विचारों से सहमत नहीं तो भी कोई बात नहीं पर आप ये अवश्य सोचे की कैसे मानवता अपने देश को आगे बढ़ाये दूसरो की सेवा करें पर उन्हें अपंग न बनाये। उन्हें अपने पैरो पर खड़े होने में मदद करे नाकि उन्हें फ्री सुविधाएं दें.

About Gaurav Sharma